पढाई में मन कैसे लगाये – Study में ध्यान लगाने के 8 तरीके

पढाई में मन कैसे लगाये? पढाई में मन नहीं लग रहा हैं तो क्या करे? पढ़ना तो जरुरी हैं, यह तो हम सब जानते हैं ही हैं, आज के तौर में बिना पढाई के अच्छी नौकरी पाना असंभव सा हैं. आपका मन भी पढाई में नहीं लग रहा होगा, अगर ऐसा हैं तो आज, इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप अच्छे से अपना मन पढाई में केन्द्रित कर पाएंगे. यहाँ पर में आपको पढाई में मन लगाने के जबरदस्त तरीके बताने वाला हु, जिन्हे follow करके आप भी ध्यान से study कर पाएंगे.

बहोत सारे ऐसे students होते हैं जोकि पढाई तो करना चाहते हैं, पर उनका ध्यान किसी और चीज़ में लग जाता हैं. Mobile और TV जैसी चीजों की वजह से students सही से पढाई नहीं कर पाते हैं. हर एक विद्यार्थी का सपना होता हैं की वह खूब पढाई करे और अपने माँ बाप का नाम रोशन करे, और माँ बाप भी यह सोचते हैं की उनका बेटा पढाई में अव्वल आये.

यहाँ पर आपको पढाई में मन लगाने टोटके तो बताये गए हैं पर जब तक आप उनका पालन नहीं करोगे तब तक कुछ भी नहीं बदलने वाला हैं. यहाँ पर दिए गए पढाई करने के तरीके को आप आज से ही फॉलो करना शुरू कर दीजियेगा. फिर देखना, आप का मन भी पढाई में लगने लगेगा. तो अगर आपका पढाई में मन नहीं लग रहा हैं तो क्या करे, मेरा पढाई में मन नहीं लगता क्या करू, पढाई में मन लगाने के तरीके के बारेमे सर्च कर रहे हैं तो यहाँ पर आपको उन सभी सवालो का समाधान मिल जायेगा.

तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की पढाई में मन कैसे लगाये, स्टडी में ध्यान कैसे लगाये (Study tips in Hindi). दिए गए पढाई में मन लगाने टोटके को ध्यान से पढ़े और आज से ही उंनका पालन करना शुरू कर दीजिये क्योकि यही सही समय है पढाई करने का, अगर यह वक्त निकल गया तो फिर लौट कर नहीं आयेगा और तब सोचोगे की काश हमने उस समय पढाई में मन लगाया होता.

पढाई में मन कैसे लगाये – पढाई में मन लगाने के तरीके

पढाई करने के तो बहोत तरीके है पर उन तरीको पर खरा उतरके जोरो शोरो से पढाई करना आपके ऊपर निर्भर हैं. कुछ चीज़े ऐसी होती हैं जोकि आपका ध्यान पढाई से हटा देती हैं, बस आपको उन चीजों से छुटकारा पाना हैं. निचे बताये गए तरीके पढाई में मन को एकाग्र करने में मदद करेंगे.

1. सही Time table बनाये

समय बहोत महत्वपूर्ण और कीमती चीज़ हैं, इनका हमें सही से उपयोग करना चाहिए. पढाई करने के लिए आपको एक सही time table बनाना चाहिए. कभी आप सुबह को जल्दी उठकर पढाई करते हैं, कभी 2 घंटे उस विषय को पढ़ लिया तो कभी 1 घंटा उस विषय को पढ़ लिया, ऐसा मत करो. आप जिस भी कक्षा में हो या फिर जिसभी परीक्षा की तैयारी कर रहे हो, उनके कुछ subjects होते हैं, तो आपको उन सभी subjects को सही समय देना हैं. आपको यह सुनिश्चित करना होगा की सभी विषयो को बराबर समय मिले. आपको 7 दिनों के लिए एक टाइम टेबल बनाना हैं और उसे हर हफ्ते follow करना हैं. ध्यान रहे की आप सभी subjects को cover करे. हा, आपको जिस subject में थोडा कम समज में आता हो उन्हें थोडा ज्यादा समय दे सकते हैं.

Time table बनाकर उसका पालन करना हैं, वह भी रोज़, ऐसा नहीं की एक या दो दिन पालन करा और फिर अपने हिसाब से कुछ भी पढ़ना शुरू कर दिया. अगर आपका कल या परसों किसी subject का paper हैं तो आपन उनकी तैयारी कर सकते हैं, तब तक के लिए आप अपने टाइम टेबल में बदलाव करिए. यहाँ पर में पुरे साल के टाइम टेबल की बात कर रहा हु.

2. पढाई करते समय बिना जरुरत के Mobile का उपयोग ना करे

Mobile, यही एक चीज़ हैं जोकि आपका ध्यान पढाई में लगने ही नहीं देता. आप आधा घंटा पढाई करते हो फिर 15 मिनट मोबाइल चलाते हैं, ऐसे कैसे चलेगा? जब भी आप पढाई करने बेठो तो आप मोबाइल को अपने से दूर ही रखे, आपकी नजर भी मोबाइल या टेलीविज़न की और नहीं जानी चाहिए.

कुछ विद्यार्थी तो गाना सुनते-सुनते पढाई करते हैं, यह आपको disturb करता हैं, आपको ऐसा नहीं करना हैं. पढाई करते समय आपका मन और ध्यान सिर्फ पढाई में ही होना चाहिए. अगर आपको पढाई करते समय किसी चीज़ के बारेमे जानना हो तो आप मोबाइल से उस चीज़ के बारेमे पता करिए, पर केवल उस प्रश्न का जवाब पाने के लिए ही. आज के तौर में online education काफी बढ़ गया हैं, तो mobile और laptop तो साथ में होगा ही, तो उसका इस्तेमाल केवल पढाई के लिए ही करे.

3. पढाई करने के पीछे आपका मकसद या लक्ष्य निर्धारित करे

सब पढाई करते है, पर किस लिए? हर एक का अपना एक सपना होता हैं की में पढ़ लिख कर यह बनूँगा, मुझे पढाई करके यह करना हैं, किसीको एक बड़ा officer बनाना हैं, इत्यादि. आपका भी कोई लक्ष्य जरुर होगा. आप भी पढाई करके कुछ बनाना चाहते होंगे, अपने सपने पुरे करने चाहते होंगे. तो यही सही समय हैं अपने सपने को पुरे करने के रास्तो पर चलने का. यह आपका पहला कदम होगा अपने सपनों की सीडी को चड़ने का, अपने लक्ष्य की और बढ़ने का. जब भी आप पढाई करने बेठे तो यह सोच कर बेठे की में केवल अच्छे marks लेने के लिए नहीं पढ़ा रहा हु, में अपने लक्ष्य को पाने के लिए पढाई कर रहा हु. हर चीज़ को करने का एक मकसद होता हैं, तो जब तक आप यह नहीं समज लोगे की में जिस चीज़ को कर रहा हु उसके पीछे का हेतु क्या हैं, तब तक आप उस चीज़ को पुरे जोरो शोरो से नहीं करोगे. अगर पढ़ते समय आपका लक्ष्य आपके सामने होगा तो आपको पढाई करने में एक motivation मिलेगा.

आप किसी के कहने या फिर किसी के दबाव में आकार पढाई करोगे तो उसका कोई फल नहीं मिलेगा, जब तक आप खुद से पढाई नहीं करोगे, मन लगाकर पढाई नहीं करोगे, तब तक कुछ भी नहीं होने वाला. इन्सान घोड़े को कुए तक तो ले जा सकते हैं पर उस कुए से पानी पीना हैं या नहीं वह तो घोड़े के ऊपर ही निर्भर करता हैं. हम आपको रास्ता तो दिखा सकते हैं पर उस रास्ते पर चलना या ना चलना आपके ऊपर निर्भर हैं. तो अपना एक लक्ष्य बनाये और उस लक्ष्य को पाने के लिए आप पढाई कर रहे हैं इस विचार को सामने रखकर पढाई करने बेठे.

4. किसी एक विषय के पीछे ना पड़ जाए

कुछ विद्यार्थी ऐसे होते हैं जिनको कोई subject बहोत पसंद होता हैं, वे उनको ही पढ़ते रहते हैं. अगर आप उनको ही पढ़ते रहोगे तो बाकीके subjects कौन पढ़ेगा? भेले ही आपको कुछ subjects पसंद ना हो पर उनकी पढाई तो करनी ही पड़ेगी. अगर आपको कोई subject पसंद नहीं है और आप उसकी पढाई ही नहीं कर रहे है तो यह सही बात नहीं हैं.

अगर में अपनी बात करू तो मुझे सबसे ज्यादा “गणित” विषय पसंद हैं. पर मेने कभी इस विषय को बाकि विषय से कम या ज्यादा समय नहीं दिया हैं. मेने हर एक विषय को पूरा समय दिया हैं. अगर आप एक ही subject को बार पढोगे तो आप बोर हो जाओगे, इसीलिए आप एक subject की पढाई के बाद दुसरे subject की पढाई करे. इससे होगा यह की आपको नए topics पढ़ने को मिलेंगे, कुछ नया सीखना मिलेगा और आप बोर नहीं होंगे.

5. पढ़ने के लिए सही जगह का चुनाव करें

आप पढ़ने किस जगह बैठते है, आप किस जगह का चुनाव करते हैं, इसकी असर आपके पढ़ाई के ऊपर पड़ती है. अगर आप ऐसी जगह बैठोगे जहां बहुत शोर है तो ऐसे में आप का मन पढ़ाई में नहीं लगेगा और फिर आप सोचोगे की मेरा पढाई में मन नहीं लगता हैं, में पढाई में अपना ध्यान केन्द्रित नहीं कर पा रहा हु. आपको ऐसी जगह बैठना चाहिए जहां पर शांति हो, कोई परेशान करने वाला ना हो, ऐसे में आपका ध्यान सिर्फ पढ़ाई में रहेगा और अन्य चीजों से आपका ध्यान दूर रहेगा. अगर आप किसी शांत कमरे में पढ़ाई करते हैं तो आप और ज्यादा एनर्जी के साथ पढ़ाई में मन लगा पाएंगे.

6. आपको पढ़ना है रटना नहीं है

देखो, पढ़ाई करना और रट्टा मारना दोनों में बहुत अंतर होता है. आपको रट्टा नहीं मारना है. बहुत सारे विद्यार्थी क्या करते हैं की वे प्रश्न के जवाब को याद कर लेते हैं, उसे समझते नहीं है. मैं आपको एक बात बता दूं की रट्टा मार के याद की गई चीजें ज्यादा दिन तक आपको याद नहीं रहेगी पर अगर उसकी जगह आपने उस जवाब को या फिर टॉपिक को समझकर उसे याद करने का प्रयास किया होगा तो वह चीज आपको लंबे समय तक याद रहेगी. आपको एक एक लाइन याद करने की जरूरत नहीं है बस आप उस टॉपिक को समझ लीजिए और उसे अपने शब्दों में लिखिए, वह जवाब भी सही होगा.

मैं रट्टा मारने से इसलिए मना कर रहा हूं क्योंकि अगर आप रट्टा मारोगे तो वह चीज आपको दो-तीन दिन या एक हफ्ता याद रहेगी फिर आप उसे धीरे-धीरे भूलने लगोग और फिर आप जब उसे भूल जाओगे तो आप demotivate हो जाओगे और मन में सोचोगे कि मुझे पढ़ा हुआ कुछ याद नहीं रहता, में पढाई में कमजोर हु, इससे आपका मन पढ़ाई में कमजोर हो जाएगा और आप डिमोटिवेट हो जाओगे. आप टॉपिक को समझे, उसे अपनी तरह से बयां करने का प्रयास करें, वह आपको ज्यादा समय तक याद रहेगा.

तो आज से ही आप रट्टा मारना बंद कर दो. पहले टॉपिक को समझो, हो सके तो उसे अपने शब्दों में लिखने का प्रयास करो और उसका रिवीजन करो.

7. आपने जो पढ़ा है उसका रिवीजन करो

आपने अच्छे से पढ़ाई की, बहुत अच्छे से topics को समझ भी लिया और फिर अगर आप उस topic को या फिर जवाब को बंद ही कर देंगे तो ऐसे में संभावना है कि आप उसे भूल सकते हो. अगर आपको कोई टॉपिक अच्छे से याद रह गया है, समझ में आ गया है तो उसका रिवीजन भी करें. इससे आप और मजबूती से उस टॉपिक को याद रख पाएंगे, उसे समझ पाएंगे और उसकी image को अपने दिमाग में बैठा लेंगे. हर चीज का revision होना चाहिए, इससे आपकी practice बढती है, आपका मन पढाई में ज्यादा लगता है.

जब आप दूसरी बार उस टॉपिक को पढ़ोगे तो आपको वह टॉपिक जल्दी से समझ में आ जाएगा. पहले जीतनी देर उस टॉपिक को समझने में या याद करने में लगी थी उससे आधे से भी कम समय में आप दूसरी बार उस टॉपिक को समझ पाएंगे और उसे याद कर पाएंगे. इससे आपको एक मोटिवेशन भी मिलेगा कि अब मुझे यह चीज समझ में आ रही है मैं इसे याद कर पा रहा हूं.

तो कुल मिलाकर रिवीजन बहुत जरूरी है. आपने जो पढ़ा है उसका एक या दो बार रिवीजन जरूर करें.

8. जरूरी चीजें पढ़ते समय साथ रखें

जब भी आप पढ़ाई करने बैठे तो जो भी आवश्यक चीजें हैं जैसे की नोटबुक, पेन, पेंसिल, इत्यादि, उसे अपने पास ही रखें. बहुत सारे विद्यार्थी क्या करते हैं कि वह सिर्फ बुक को लेकर पढ़ने बैठ जाते हैं और फिर जब कोई important topic को note करना होता है तो वह खड़े होकर पेन लेने जाते हैं, पेंसिल लेने जाते हैं. ऐसे में आपका समय भी बर्बाद होता है और आपका मन थोड़ा सा पढ़ाई से हट जाता है. इससे अच्छा आप पहले से ही सारी चीज अपने पास रखें. आपको यह तो पता ही होगा कि मुझे किस चीजों की जरूरत पड़ेगी अगर मैं इसकी पढ़ाई कर रहा हूं तो. अगर आप ऐसा करेंगे तो जब उस चीज की जरूरत पड़ेगी तो वह चीज आपके पास ही होगी और आप फटाक से उसे ले सकते हो और उसका उपयोग कर सकते हो. ना तो आपको उठाने की जरूरत पड़ेगी और ना ही आपका ध्यान भटकेगा. यह छोटी-छोटी बातें भी बहुत मायने रखती है. आपको हर छोटी से छोटी चीज के बारे में सोचना होगा.

यहां पर मैंने आपको पढ़ाई में मन कैसे लगाएं (Padhai me man kaise lagaye) इसके बारे में 8 उपाय बताए हैं. मतलब पढ़ाई में मन लगाने के मंत्र (Study tips in Hindi), पढ़ाई में मन लगाने के टोटके के बारे में जानना चाहते हैं पर मैं आपको बता दूं कि आपको कितने भी तरीके हम बता दें पर जब तक आप अपने मन से नहीं सोचोगे कि मुझे पढ़ना ही है मुझे पढ़ना ही है तब तक आप उस तरीके का पालन करने में खरे नहीं उतर पाओगे.

माता-पिता भी अपने बच्चों की शिक्षा को लेकर चिंतित रहते अगर उनका बच्चा भी पढ़ाई में कमजोर है, पढ़ाई में मन नहीं लगता है, वो चिंता करते हैं. मां बाप को अपने बच्चों से बहुत उम्मीदें होती है उनके भविष्य और उनकी जिंदगी को लेकर. उनकी बस एक ही ख्वाहिश होती है कि उनका बेटा एक अच्छा इंसान बने, पढ़ लिखकर बड़ा आदमी बने. उनकी उम्मीदों को पूरा करने के लिए, अपने अच्छे भविष्य के लिए, यही सही समय है पढ़ाई करने का. छोड़ दो सब बे फुसिल की चीजें, मत करो अपना समय बर्बाद, जोरों शोरों से कर दो पढ़ना शुरू.

Conclusion:

तो में उम्मीद करता हूं कि यहां पर पढ़ाई में मन लगाने के उपाय के बारे में जो कुछ भी जानकारी दी गई है उनका आप आज से ही पालन करना शुरु कर दोगे. अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है तो मैं आपको गारंटी देता हूं अगर आप पढ़ाई में मन लगाने की tips को follow करेंगे तो आपका मन भी पढाई में ज्यादा लगेगा. पढ़ाई में मन नहीं लगता है तो क्या करें, मुझे पढ़ाई करनी है पर study में ध्यान केंद्रित नहीं हो पा रहा है, पढाई करने के लिए क्या करे, मैं पढ़ाई में कमजोर हूं क्या करूं, यह सब सवाल बहुत सारे विद्यार्थियों के मन में आते रहते हैं. वे इन सवालों के बारे में सोच-सोच कर अंदर से ही demotivate होते रहते हैं, इसकी जगह positive विचार को अपने मन में रखें. ऐसे विचार रखें कि मैं पढ़ाई कर सकता हूं, मुझे पढ़ाई करनी ही है, मुझे अपने लक्ष्य को पूरा करना ही है.

How to concentrate on study, अच्छे से पढ़ाई कैसे करें के बारे में लिखे गए इस article को अपने साथी मित्रों के साथ भी जरूर share करें ताकि वह भी अच्छे से पढ़ाई में मन लगा पाए. यहां पर हम education से जुड़े articles publish करते हैं, तो अगर आप भी एक विद्यार्थी है या फिर किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो इस Grammar Sikho में आपको सही जानकारी सरल शब्दों में बताई जाती है. आपको यह article कैसा लगा इस पर अपनी राय हमें नीचे comment करके जरूर बताइएगा. धन्यवाद.

Sharing Is Caring:

Hi, मेरा नाम Kishan Sarvaiya है. में इस ब्लॉग का founder हु. मेरा Grammarsikho.in ब्लॉग बनाने का एकमात्र उद्देश्य students को हिंदी और इंग्लिश ग्रामर, गणित और शिक्षा से जुडी जानकारी देना है.

Leave a Comment