Parts of Speech in Hindi With Definition and Examples – शब्दभेद के प्रकार

Parts of Speech in Hindi – हेल्लो दोस्तों, आज हम Parts of Speech in Hindi के बारेमे विस्तार से जानने वाले हैं तो यदि आप भी नहीं जानते की Parts of Speech क्या हैं, parts of speech कितने प्रकार के होते हैं, इनकी परिभाषा क्या हैं, तो यह article आपके लिए हैं. हम जानते हैं की आप इंग्लिश ग्रामर सिख रहे हैं और तभी आप इस लेख को पढ़ने आये हैं. Parts of Speech इंग्लिश ग्रामर का एक बहोत ही महत्वपूर्ण topic हैं और हर एक student को जोकि English सीखना चाहता हैं उन्हें इसके बारेमे जरुर सिखाना चाहिए.

वैसे तो Grammar नियमो का एक बहोत बड़ा समुद्र हैं, हमें एक-एक करके ग्रामर के सभी नियमो को समजना और सीखना होगा. यहाँ पर आपको Parts of Speech in Hindi की सम्पूर्ण जानकारी देंगे, जैसे की Parts of Speech की परिभाषा क्या हैं (Definition of parts of speech in Hindi), Parts of Speech कितने प्रकार के होते हैं (Types of parts of speech in Hindi), इत्यादि. अगर आप एक विद्यार्थी हैं तब तो आपको इस topic के बारेमे अवश्य सीखना होगा, परीक्षा में भी इससे जुड़े सवाल आते हैं. और यदि आप प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं तब भी आपको इसके बारेमे सीखना होगा, हम तो कहते हैं की हर किसी को इस topic के बारेमे सीखना चाहिए ताकि हर कोई English भाषा को अच्छे से समज और बोल पाए.

Parts of speech in Hindi
Parts of speech in Hindi

Parts of Speech in Hindi

English भाषा में हम वाक्य बनाते हैं और उस वाक्य में उपयोग किये जाने वाले हर एक शब्द का अपना एक अलग महत्त्व होता हैं. कुछ साधारण वाक्यों को छोड़ दे तो कोई वाक्य में से किसी एक शब्द को हटा देने से वाक्य का अर्थ थोडासा बदल जाता हैं. शब्द का एक महत्त्व होता हैं और Parts of Speech इसी के बारेमे आपको समजाता हैं.

आपके कुछ सवाल जैसे की अंग्रेजी में शब्द के कितने भेद होते हैं? पार्ट ऑफ स्पीच के कितने भाग हैं? इन सभी के जवाब यहाँ पर मिलने वाले हैं.

तो चलिए शुरू करते हैं और Parts of Speech की परिभाषा क्या हैं इस टॉपिक से article की शुरुआत करते हैं, फिर आगे हम इनके भेद के बारेमे विस्तारपूर्वक चर्चा करेंगे.

Parts of Speech की परिभाषा – Parts of Speech Definition in Hindi

English भाषा में शब्दों को वाक्य में उनका क्या प्रयोग हैं इस आधार पर 8 भागो में विभाजित किया हैं. इन्ही 8 भागो को हम Parts of Speech कहते हैं.

Parts of Speech Definition in English

In an English language, words have been divided into 8 parts based on the job they do in a sentence. And these 8 parts are known as parts of speech.

अभी आपके मन में सवाल आया होगा की शब्दों को कैसे बांटा गया होगा? देखो, हर एक शब्द का अलग मतलब होता हैं, जैसे की कुछ शब्द किसी व्यक्ति या वस्तु को दर्शाते हैं, कुछ शब्द किसी क्रिया को दर्शाते हैं, कुछ शब्द दो वाक्यों को आपस में जोड़ने का कार्य करते हैं, तो इन्ही सब बातो को ध्यान में रखते हुए शब्दों की एक श्रेणी तय की गयी हैं और उन्हें उनके कार्यो के आधार पर 8 parts में बाँट दिया गया हैं.

अगर इसे और भी सरल शब्दों में समजने का प्रयत्न करे तो में आपको एक उदहारण देता हु. एक School हैं जिसमे बहोत सारे लोग काम करते हैं जैसे की Teachers, Peon, Principal, Security Guards, etc. तो उस school में इन सभी का काम अलग अलग होता हैं, जैसे की teachers students को पढ़ाते हैं, Peon school के छोटे मोटे कार्य करता हैं, Principal school की देखभाल करता हैं और स्कूल के महत्वपूर्ण निर्णय लेता हैं, Security guard school की security करता हैं और किसी अंजान व्यक्ति को अन्दर आने से रोकता हैं. तो इस उदहारण में School को आप English language मान लीजिये और teachers, peon, etc., को आप parts of speech मान लीजिये.

Also read:

Parts of speech को हिंदी में क्या कहते हैं?

Parts of speech को हिंदी में शब्दभेद कहते हैं. जिस तरह English grammar में parts of speech होता हैं ठीक उसी तरह Hindi grammar में भी शब्दभेद होता हैं. जिन्हें हम किसी और article में आपको समजेंगे. तब तक के लिए आपको parts of speech meaning in Hindi के बारेमे पता चल गया होगा.

तो अब आपको समज में आ गया होगा की parts of speech किसे कहते हैं, parts of speech की व्याख्या क्या हैं, तो चलिए अब हम parts of speech के प्रकार के बारेमे जानते हैं और समजने का प्रयास करते हैं.

Types of parts of speech in Hindi

English में parts of speech के कुल 8 भाग हैं और वह 8 भाग निचे लिखे गए हैं.

  1. Noun (संज्ञा)
  2. Pronoun (सर्वनाम)
  3. Adjective (विशेषण)
  4. Verb (क्रिया)
  5. Adverb (क्रिया विशेषण)
  6. Conjunction (संयोजक)
  7. Preposition (संबंधसूचक)
  8. Interjection (विस्मयसूचक)

तो वाक्य बनाते समय हम जिन शब्दों का उपयोग करते हैं वे शब्द इन्ही parts of speech के किसी एक प्रकार में से होता हैं. इसीलिए यह बहोत ही जरुरी हैं की आप parts of speech मतलब की शब्दभेद को सही से सीखे ताकि आप इंग्लिश भाषा को सही से बोल पाए, समज पाए, लिख पाए.

तो यह थे 8 parts of speech के भाग, तो अब आपके मन में जो सवाल था की parts of speech के कितने प्रकार होते हैं उनके बारेमे पता चल गया होगा. अब हम एक-एक करके इन शबी प्रकारों के बारेमे समजते हैं.

1. Noun (संज्ञा)

Noun मतलब ऐसे शब्द जोकि किसी व्यक्ति, स्थान, वस्तु, आदि को दर्शाते हैं.

जैसे की अगर किसी वाक्य में आप किसी व्यक्ति का नाम लिखते हैं या फिर किसी वस्तु को दर्शाते हैं तो उन्हें Noun यानी की संज्ञा कहते हैं. जैसे की Komal, Ramesh, Taj Mahal, Delhi, Happiness, etc., Noun के उदाहरण हैं. आप अपने आजू बाजू में किसी भी वस्तु को देखे, उन सभी को Noun कहते हैं, किसी चीज़ की गुणवत्ता को भी Noun ही कहते हैं.

Noun Examples:

  • Kishan is teaching grammar (यहाँ पर Kishan एक Noun हैं)
  • I want to go Taj Mahal (यह पर Taj Mahal एक Noun हैं)

सबसे पहले वाक्य का मतलब होता हैं की “किशन ग्रामर पढ़ा रहा हैं” तो यहाँ पर “Kishan” एक व्यक्ति का नाम हैं और यह वाक्य का Subject भी हैं. तो Kishan को हम Noun कहेंगे और Subject भी. दुसरे वाक्य का मतलब होता हैं की “में ताज महल जाना चाहता हु” तो इसमे “ताज महल” एक जगह का नाम हैं और किसी जगह के नाम को हम Noun कहते हैं.

2. Pronoun (सर्वनाम)

Pronoun ऐसे शब्द होते हैं जिनका उपयोग हम Noun की जगह करते हैं. जैसे की, I, We, You, He, She, It, They, etc.

किसी वाक्य में बार-बार Noun का उपयोग करने के बजाये हम केवल एक बार Noun का use करते हैं और दूसरी बार जब Noun का उपयोग करने की जरुरत पड़े तो उसकी जगह हम Pronoun का प्रयोग करते हैं.

Pronoun Examples:

  • Naresh is a good boy. He is 26 years old. (यह पर He एक Pronoun हैं)
  • Delhi is the capital of India. It is a very beautiful city. (यहाँ पर It एक Pronoun हैं)

अगर हम सबसे पहले वाक्य को देखे तो उसमे बताया गया हैं की “नरेश एक अच्छा लड़का हैं और उसके तुरंत बाद हमने यह भी कहा हैं की “नरेश 26 साल का हैं” तो जब हम दूसरी बार उसी Noun के बारेमे बात करते हैं तो दूसरी बार हमें Naresh लिखने की जरुरत नहीं हैं, हम उसकी जगह pronoun का उपयोग कर सकते हैं. पर ध्यान रहे की आप सही Pronoun का प्रयोग करे, किसी भी pronoun का उपयोग मत कीजियेगा. यहाँ पर नरेश एक लडके का नाम हैं इसीलिए हमने He का उपयोग किया हैं, अगर इसकी जगह कोई लड़की का नाम होता तो हम She का उपयोग करते.

3. Adjective (विशेषण)

Adjective मतलब ऐसे शब्द जो किसी Noun या Pronoun की क्या विशेषता हैं इसके बारेमे जानकारी देता हैं. जैसे की कोई व्यक्ति कैसा हैं, उसके क्या गुण हैं, कोई जगह कैसी हैं, उसकी विशेषता बताता हैं.

Good, Clever, Tall, Big, Small, etc., Adjective के उदाहरण हैं.

Adjective Examples:

  • Sangita is a clever girl (यहाँ पर Clever एक Adjective हैं)
  • Rajkot is a beautiful city in Gujarat (यहाँ पर Beautiful एक Adjective हैं)

पहले वाक्य में संगीता की तारीफ की गयी हैं, उसकी विशेषता बताई गयी तो उस वाक्य में Clever विशेषण हैं और दुसरे वाक्य में राजकोट शहर कैसा हैं यह बताया गया हैं मतलब की उसकी विशेषता बताई गयी तो उस वाक्य में भी Beautiful एक विशेषण हैं.

4. Verb (क्रिया)

Verb ऐसे शब्द होते हैं जोकि किसी वाक्य में हो रही क्रिया को दर्शाते हैं. क्रिया किसी वस्तु से होती हैं, कोई व्यक्ति किसी क्रिया को करता हैं तो ऐसे में जिन शब्दों का प्रयोग होता हैं उन्हें क्रिया कहते हैं.

जैसे की running, Walking, Eating, Speaking, Listening, etc.

Verb Examples:

  • Suresh is speaking English language. (Speak एक Verb हैं)
  • I want to go to school (Go एक Verb हैं)

पहले वाक्य में Speaking एक क्रिया हैं, बोलने की क्रिया. यहाँ पर सुरेश इंग्लिश भाषा बोल रहा हैं मतलब की कुछ क्रिया कर रहा हैं तो ऐसे में Speaking एक क्रिया हैं. मूल word तो speak हैं पर यह वाक्य Continues tense का हैं इसलिए यहाँ पर verb का ing वाला form use किया गया हैं. दुसरे वाक्य का हिंदी अर्थ हैं “में पाठशाला जा रहा हु” तो यहाँ पर पाठशाला जाने की क्रिया हो रही हैं जोकि हमें Go verb से पता चलता हैं इसलिए यहाँ पर Go एक Verb हैं.

आप tense के बारेमे ज्यादा जानकारी इस आर्टिकल से ले सकते हैं >>> Tense in Hindi

5. Adverb (क्रिया विशेषण)

Adverb ऐसे शब्द हैं जोकि किसी adjective या फिर दुसरे Adverb शब्दों की विशेषता बतलाते हैं. यह ऐसे शब्द होते हैं जोकि विशेषण की विशेषता बताते हैं. विशेषण तो किसी व्यक्ति या वस्तु की विशेषता बताते हैं पर क्रिया विशेषण उस विशेषण की भी विशेषता बताते हैं.

जैसे की Very, Slowly, More, After, Before, etc.

Adverb Examples:

  • Gujarat is very educated state in India (यहाँ पर vary एक Adverb हैं)
  • Radha is more taller than Kinjal. (यहाँ पर More एक Adverb हैं)

पहले वाक्य में बताया गया हैं की गुजरात एक शिक्षित राज्य हैं और यह गुजरात की विशेषता बताता हैं पर गुजरात एक बहोत ही शिक्षित राज्य हैं जोकि गुजरात की विशेषता की भी विशेषता बताता हैं. दुसरे वाक्य में बताया गया हैं की राधा लम्बी हैं जोकि एक विशेषण हैं पर राधा किंजल से भी लम्बी हैं जोकि विशेषता की विशेषता बताता हैं मतलब की इस वाक्य में More एक Adverb हैं.

में जनता हु की आपको adjective और adverb में क्या अंतर होता हैं इसमे थोडा सा confusion हो रहा होगा. तो आप अपना confusion दूर करने के लिए हमारे द्वारा विशेषण पर लिखी गयी यह post जरुर पढ़े: विशेषण और क्रिया विशेषण क्या हैं.

6. Conjunction (संयोजक)

Conjunction ऐसे शब्द होते हैं जो की एक से अधिक वाक्यों को आपस में जोड़ने का कार्य करते हैं, यह वाक्य के साथ-साथ दो मुहावरे को भी एक-दुसरे के साथ जोड़ते हैं. इन्हें हिंदी में संयोजक कहते हैं और उनके नाम पर से ही पता चलता हैं की ऐ शब्द संयोजन का कार्य करते हैं.

जैसे की And, Or, For, But, Though, etc.

Conjunction Examples:

  • He is kishor and he is the owner of that house. (यहाँ पर And एक Conjunction हैं)
  • Krishna is going to Surendranagar but she is going via Rajkot. (यहाँ पर But एक Conjunction हैं)

सबसे पहले वाक्य में बताया गया हैं की “वह एक किशोर हैं” और उसी वाक्य में बताया गया हैं की “वह किशोर उस घर का मालिक हैं” तो इन दोनों वाक्यों को And शब्द से जोड़ा गया हैं और वाक्य का संयुक्त मतलब “वह किशोर हैं और वह उस घर का मालिक हैं” ऐसा होता हैं. तो इस तरह संयोजक दो वाक्यों को आपस में जोड़ते हैं.

दुसरे वाक्य में बताया गया हैं की “Krishna सुरेंद्रनगर जा रही हैं पर वह राजकोट होते हुए सुरेंद्रनगर जा रही हैं” तो यहाँ पर But के Conjunction हैं जोकि दो वाक्यों को जोड़ता हैं.

7. Preposition (संबंधसूचक)

Preposition ऐसे शब्द होते हैं जोकि Noun या Pronoun का वाक्य के अन्य शब्दों के साथ के संबंध को दर्शाता हैं. एक वाक्य में बहोत सारे शब्द होते हैं और वे सारे शब्द एक दुसरे के साथ जुड़े हुए होते हैं तो आखिर उनके बिच क्या संबंध हैं यह हमें Preposition बताता हैं.

जैसे की, On, At, By, Above, Between, Into, etc.

Preposition Examples:

  • There is a pen on the table. (यहाँ पर On एक Preposition हैं)
  • There is a difference between No and Know (यहाँ Between एक Preposition हैं)

पहले sentence का मतलब होता हैं की “वहा टेबल पर एक पेन हैं” तो इसमे पेन और टेबल के बिच क्या संबंध हैं यह बताया गया हैं. और दुसरे वाक्य का मतलब हैं की “No और Know के बीचे अंतर होता हैं” तो यहाँ पर Between preposition हैं जोकि No और Know के बिच के संबंध को दर्शाता हैं.

Preposition के बारेमे ज्यादा जानकारी: Preposition in Hindi

8. Interjection (विस्मयसूचक)

Interjection ऐसे शब्द होते हैं जिनके वाक्य में प्रयुक्त होने से किसी तरह का आकस्मिक भाव प्रगट होता हैं वह भी अचानक. यह भाव सुख, दुःख, गंभीरता, इत्यादि हो सकते हैं.

जैसे की Wow, Oh, Ah, etc.

Interjection Examples:

  • Wow! your look is amazing (Wow एक Interjection हैं)
  • Oh, I understood now (Oh एक Interjection हैं)

ऊपर लिखे गए दोनों वाक्यों में interjection का use किया गया हैं जोकि वाक्य में एक आकस्मिक भाव को प्रगट करते हैं.

यह भी पढ़े:

तो अब आपको parts of speech के प्रकार जोकि Noun, Pronoun, Verb, Adverb, Adjective, Preposition, Conjunction और Interjection हैं इसके बारेमे पता चल गया होगा. यहाँ पर हमने आपको parts of speech in Hindi के बारेमे आसान और सरल भाषा में समजाने का पूरा प्रयास किया हैं.

Conclusion:

Parts of speech in Hindi with definition and examples के ऊपर विस्तारपूर्वक लिखा गया यह लेख आपको parts of speech से जुडी सभी जानकारी provide करता हैं. जैसे की parts of speech की परिभाषा क्या हैं, parts of speech के कितने भाग हैं और उनके बारेमे जरुरी rules और examples.

हम इस blog में Hindi और English grammar से जुड़े articles publish करते हैं तो यदि आप भी एक student हैं या फिर grammar सिखने में आपका interest हैं तो आप हमें जरुर follow करे. हमारी हमेशा से ही यही कोशिश रहती हैं की आपको ग्रामर के कठिन से भी कठिन topic को आसानी कैसे समजया जाए. हम अपनी और से पूरी कोशिश करते हैं और साथ में आपको भी कोशिश करनी होगी ताकि आप भी ग्रामर को सही से सिख सके और भाषा को सिख सके. धन्यवाद.

Sharing Is Caring:

Hi, मेरा नाम Kishan Sarvaiya है. में इस ब्लॉग का founder हु. मेरा Grammarsikho.in ब्लॉग बनाने का एकमात्र उद्देश्य students को हिंदी और इंग्लिश ग्रामर, गणित और शिक्षा से जुडी जानकारी देना है.

Leave a Comment