Competitive exam की तैयारी कैसे करें – Exam preparation tips in Hindi

Competitive exam की तैयारी कैसे करें? Hello दोस्तों, अगर आप भी किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं या फिर करने जा रहे हैं और यह जानना चाहते हैं कि प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें, competitive exam की तैयारी करने का सही तरीका क्या होता है, तो यह article आपके लिए हैं. यहां पर हम आपको competitive exam की preparation करने के लिए कुछ tips बताने वाले हैं जिन्हें follow करके आप भी अच्छे से तैयारी कर पाएंगे.

हम सब को तो पता ही होगा competitive exam क्या होती है और यह किस लिए जरूरी है. एग्जाम तो बहुत प्रकार की होती हैं और उन exam को pass करने के लिए एक सही तरीके की जरूरत होती है. आज हर किसी को एक अच्छी सरकारी नौकरी चाहिए पर सरकारी नौकरी पाने के लिए आपको प्रतियोगी परीक्षा को पास करना होगा. नौकरी हासिल करने वाले लोगों की संख्या भी बहुत ज्यादा है ऐसे में competition भी बहुत बढ़ गया है क्योंकि हर कोई सरकारी नौकरी ही पाना चाहता है. अब सरकार सभी को तो नौकरी नहीं दे सकती इसलिए आपको ही मेहनत करके अपने दम पर प्रतियोगी परीक्षा को crack करना होगा. बहुत लोग कहते हैं कि बिना coaching जाए कोई विद्यार्थी competitive exam की तैयारी कर ही नहीं सकता तो मैं आपको बता दूं कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, आप बिना कोचिंग जाए अपने घर से ही परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं.

Competitive Exam ki taiyari kaise kare
Competitive Exam ki taiyari kaise kare

अगर आप भी competition exam के लिए preparation शुरू करना चाहते हैं या फिर आपने पहले से किसी प्रतियोगी परीक्षा को attend किया हो पर pass ना हो पाए हो या फिर आप basic level से advance level तक पहुंचना चाहते हैं तो आज का यह article आपको जरूर पढ़ना चाहिए. यहां पर हम आपको सबसे आसान भाषा में पूरी तरह से समझाने वाले हैं कि कॉन्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी करने का सही तरीका क्या होता है, आपको किन चीजों का ध्यान रखना होता है.

यहां पर हम आपको कॉन्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी करने के लिए 7 तरीके बताने वाले हैं और हर एक तरीके को हम आपको पूरी तरह से समझाएंगे, बस आपको उन तरीकों को follow करना होगा.

तो चलिए आज का यह article शुरू करते हैं और जानते हैं एक competitive exam की तैयारी कैसे करें, कॉन्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी करने के तरीके, बिना कोचिंग जाए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करते हैं, competitive exam पास करने के लिए क्या करें.

Competitive exam की तैयारी कैसे करें

परीक्षा बहुत प्रकार की होती है, कुछ लोग रेलवे की परीक्षा के लिए तैयारी करते हैं तो कुछ लोग बैंक की परीक्षा के लिए तैयारी करते हैं कुछ लोग IAS और IPS की तैयारी करते हैं. कुछ बातें ऐसी होती है जो इन सभी के लिए अलग बन जाती है. यहां पर हम आप को उनके बारे में भी बताएंगे. यहां पर जो तरीके, जो उपाय बताए गए हैं वह किसी भी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए अपनाए जा सकते हैं. तो चलिए शुरू करते हैं.

1. Perfect time table बनाइए

अगर आपने competition exam की तैयारी करने की ठान ही ली है तो आपको एक perfect और effective time table बनाना होगा. आप जिस भी कॉन्पिटिटिव एग्जाम के लिए तैयारी कर रहे हो उस एग्जाम में जो भी subject होते हैं, जिस भी subjects की आपको पढ़ाई करनी होती है, आपको उन सभी subjects को अपने time table में शामिल करना है.

आपको हर एक subject के लिए कुछ time slot decide करना है और उस time के हिसाब से आपको उस subject की पढ़ाई करनी है. 1 दिन में बहुत कम subjects या फिर बहुत ज्यादा subjects add ना करें, बैलेंस बना कर पढ़ाई करें क्योंकि अगर आप बहुत ज्यादा subjects एक ही दिन में पढ़ लेंगे तो आप confuse हो जाएंगे. आपने पहले जो पढ़ा है उसे आप सही से याद नहीं रख पाएंगे.

अपने टाइम टेबल में सभी जरूरी subjects को पूरा समय जरूर दीजिए. मान लीजिए कि आपकी exam एक महीने बाद है और आप आज से उस प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी शुरू करने जा रहे हैं तो आपको सबसे पहले उस exam के syllabus को देख कर उसमें जो भी subjects आते हैं उन सभी subjects को अपने time table में शामिल करने होंगे और इस तरह करने होंगे कि आप 1 महीने के अंदर उन सभी subjects की पढ़ाई कर सकें.

2. Common exam syllabus का analysis करें

जो भी competitive exam होती है, जैसे कि बैंक की प्रतियोगी परीक्षा, रेलवे की प्रतियोगी परीक्षा, तलाटी की प्रतियोगी परीक्षा, इत्यादि, उनमें कुछ ऐसे subjects होते हैं जो कि common होते हैं, मतलब कि हर एक प्रतियोगी परीक्षा में उन subjects में से प्रश्न आते ही हैं फिर चाहे आप किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की बात करें. और वह subjects है General awareness, Reasoning, Mathematics, and General English. तो आपको इन चारों subjects के सिलेबस को अच्छे से देखना है और उसका analysis करना है.

आपको क्या करना है, आपको एक नोटबुक ले लेनी है और उसमें इन चारों subjects के जो भी topics होते हैं उनको लिख लेना है. जैसे कि math में कुछ topics होते हैं तो आपको उन्हें नोटबुक में लिख लेने हैं. इसी तरह Reasoning, general Awareness और General English के topics को भी नोट में लिख लेना हैं. आपको बारी-बारी उन सभी topics की तैयारी करनी है.

अब बात करे सिलेबस की मतलब कि सही सिलेबस कहां से ढूंढे? देखो ज्यादातर exam का सिलेबस आपको exam conduct कर रहे department की ओर से ही मिल जाता है. पर कुछ ऐसे subjects होते हैं, कुछ ऐसे topics होते हैं जिनके बारे में detail से नहीं बताते. आप SSC CGL या फिर SSC CHSL के syllabus को ले सकते हैं क्योंकि उनका सिलेबस बहुत अच्छा है, उसमें reasoning और math जैसे subjects के सभी topics को शामिल किया गया है, आप SSC के syllabus को रेफरेंस के तौर पर ले सकते हैं.

3. सही Books का selection करें

ज्यादातर students अच्छी और सही book का selection करने में गलती कर देते हैं, और इसी वजह से वह सही से तैयारी नहीं कर पाते हैं. Best books का selection करें, ध्यान दें कि उस बुक में सभी टॉपिक को सही से और विस्तार से शामिल किया गया हो. ऐसी बुक का चयन करें जिसमें टॉपिक के साथ बहुत सारे प्रश्न भी दिए गए हो. उदाहरण के तौर पर mathematics की book को select करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको यह देखना है कि क्या इस book में math से जुड़े सभी topics cover हो रहे हैं या नहीं और क्या हर एक topic के लिए जो भी प्रश्न होते हैं क्या वह प्रश्न इस book में शामिल है. और यही बात अन्य subjects पर भी लागू होती है.

इस आर्टिकल के दूसरे तरीके में हमने आपको सिलेबस का एनालिसिस करने के बारे में बताया था तो आपने उस हिसाब से सभी जरूरी topics को और subjects को नोट डाउन तो जरूर किया होगा, तो अब आपको तीसरे तरीके में जो की बुक सिलेक्शन का है उसमें आपको यह देखना है कि मैंने जो टॉपिक लिखे हैं क्या वह टॉपिक इस बुक में है या नहीं और अगर है तो कितने विस्तार से है.

आप book selection में जल्दबाजी ना करें, अच्छे से समय निकालकर अच्छी books को सिलेक्ट करें. क्योंकि आगे आपको इसी बुक में से पढ़ाई करनी है तो बाद में ऐसा ना हो कि आपने गलत बुक को सिलेक्ट किया हो.

4. Previous years के question papers को analyze करें

आप जिस भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, आपको उस परीक्षा के पिछले कुछ साल के question papers को analyze करना है. मैं यहां आपको सिर्फ एनालाइज करने को बोल रहा हूं, शुरुआत में आप उन papers को solve करने की कोशिश मत करना क्योंकि बिना तैयारी करें अगर आप उन papers को solve करने बैठोगे तो आपको कुछ समझ में नहीं आएगा, आप demotivate हो जाएंगे. आप पूरी तरह से अपने सिलेबस को कवर कर ले, अपने पूरे सिलेबस को पढ़ ले उसके बाद ही उन papers को solve करने की कोशिश करिएगा. तब आप बहुत अच्छे से उन question papers को solve कर पाएंगे.

हम आपको इसलिए बता रहे हैं क्योंकि आपको इससे एक अंदाजा आता है की exam में किस तरह के topics से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं और किस तरह से पूछे जाते हैं, ताकि आप उस तरह के टॉपिक को पढ़ पाए और उनकी तैयारी कर सकें. अगर आपने पहले कुछ सालों के question papers को analyze किया होगा तो जब आप एग्जाम की तैयारी करने बैठेंगे तो आपके मन में question paper में पूछे गए सवाल सामने होंगे और आप उस हिसाब से तैयारी करोगे. अब आपको एक idea आ गया है कि questions किस तरह के होते हैं, वह किस तरह से पूछे जाते हैं और किस बेसिस पर पूछे जाते हैं.

5. Topic wise study करे

जब भी आप exam की तैयारी करने बैठे तो आपको हमेशा topic wise ही तैयारी करनी है. हमने आपको दूसरे तरीके में ही बताया है कि आपको सिलेबस के सभी topics को लिख लेने हैं तो आपको उन subjects मैं जो भी topics दिए गए हैं उनको सही क्रम में पढ़ना है. जब तक आप किसी एक टॉपिक को पूरी तरह से कवर नहीं कर लेते तब तक आपको दूसरे टॉपिक के और देखना भी नहीं है. पहले आपको एक टॉपिक को पूरी तरह से तैयार कर लेना है फिर आप दूसरे टॉपिक पर shift हो सकते हैं. और आपने जिन topics को कवर कर लिया हो उन topics को आप कहीं पर लिख दीजिए ताकि आपको पता चलता रहे कि मैंने इतने topics cover कर लिए हैं और अभी इतने बाकी है.

कुछ लोग क्या करते हैं कि General Awareness subject के एक topic को पढ़ा और फिर math के दूसरे topic को तैयार करने लगते हैं, ऐसा नहीं करना है. आपको सभी subjects के topics को topic wise मतलब की क्रमशः पढ़ना है और जब तक वह पूरी तरह से तैयार नहीं हो जाता तब तक आपको दूसरे सब्जेक्ट या फिर टॉपिक पर शिफ्ट नहीं होना है.

अगर पढ़ते समय आपका मन पढाई में नहीं लगा रहा हैं तो आप इस आर्टिकल: पढाई में मन कैसे लगाये के बारेमे जानकारी दी गयि हैं.

6. Notes बनाते रहिए

जब भी आप पढ़ाई करने बैठे तो आप नोट बनाते हुए पढ़ाई करें और उस टॉपिक की तैयारी करें. पढ़ाई करते समय notes बनाना एक अच्छी आदत है और हर किसी को इस आदत को अपनाना चाहिए. जब भी आप पढ़ाई करने बैठेंगे तो कोई ना कोई ऐसा टॉपिक तो आएगा ही जो कि थोड़ा सा complicated होगा उसे समझने में आपको थोड़ा ज्यादा समय लगेगा, तो आप ऐसे topic को note कर लीजिए ताकि दोबारा जब आप उस टॉपिक को देखें तो आप आसानी से उन्हें solve कर पाए, उसे समझ पाए.

जैसे कि मान लीजिये की आप mathematics की तैयारी कर रहे हैं और आपके सामने math का problem आया जो कि बहुत कठिन था, आपने उसे बहुत समय देकर solve किया तो आप ऐसा problem को note कर लीजिए ताकि दोबारा जब आप उस टॉपिक को देखें तो उसका solution आपके पास पहले से ही होता है और आप कम समय में उसे समझ पाएंगे. आपको किताबी भाषा में नोट नहीं बनानी है, आपको अपने शब्दों में नोट बनाने हैं जो आपको सही तरीका लगे उस हिसाब से नोट बनाइए.

हर एक subject के लिए एक अलग नोट बनाना आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा. Competitive exam कैसे crack करे, Competitive exam की तैयारी कैसे करे in Hindi tips में हमारी और से आखिरी tips निचे बताई गयी हैं.

7. Revision करना हैं जरुरी

अगर आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं या फिर किसी भी प्रकार की exam की तैयारी कर रहे हैं तो पुरे दिन में आपने जोभी पढाई की हैं उनका आपको revision करना हैं. आप exam preparation के लिए जोभी टाइम टेबल बनाओगे उसमे revision के लिए भी अलग से time slot add करिए. आपने एक दिन में जोभी पढ़ा उसका अगले दिन revision जरुर करे. उदहारण के लिए अगर कल आपने 5 घंटे पढ़ा तो अगले दिन आधा घंटा आपको उन topics का revision करना हैं.

Revision करना बहोत जरुरी हैं, इससे आपने जो भी पढ़ा हैं वह आपको लम्बे समय तक याद रहेगा. हम computer तो नहीं हैं की एक बार दिमाग में जो चीज़ चली गयी वो हमें हमेशा याद रहेगी. हम इन्सान हैं और हम चीजों को भूल जाते हैं, पर उसे लम्बे समय के लिए याद रखने के लिए revision जरुरी हैं. अगर आप बिना revision करे सिर्फ पढ़ते ही जायेंगे तो कुछ दिनों बाद आपने जोभी पढ़ा होगा वो आप भूलते जायेंगे. इससे अच्छा यह हैं की जोभी पढ़ा उसका revision कर ले.

तो यहाँ पर हमने किसी भी एग्जाम को क्रैक कैसे करे के बारेमे 7 उपाय बताये हैं. competition की तैयारी कैसे की जाती हैं इसके बारेमे हमने आपको कुछ tips दी हैं.

Conclusion:

Competitive exam की तैयारी कैसे करे (How to prepare for competitive exam in Hindi), यह सवाल बहोत सारे विद्यार्थीओ के मन में होता ही हैं, हमने उनकी समस्या को दूर करने के लिए बहोत सोच समज कर यह लेख लिखा हैं. यहाँ पर हमने आपको competitive exam की preparation के लिए tips, competitive exam preparation tips in Hindi बताई हैं वह किसी भी प्रकार की competitive exam की तैयारी करने के लिए उपयोगी हैं. आप बिना कोचिंग जाए परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं, बस आपको सही तरीके का पालन करना होगा.

यहाँ पर आपने जाना की competition exam क्या होता हैं, exam preparation के लिए किताब कैसे चुने, एग्जाम के लिए सही टाइम टेबल कैसे बनाये और यह क्यों जरुरी हैं. अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो और कुछ सिखने को मिला हो तो इसे अपने दोस्तों को भी share करियेगा. धन्यवाद.

Sharing Is Caring:

Hi, मेरा नाम Kishan Sarvaiya है. में इस ब्लॉग का founder हु. मेरा Grammarsikho.in ब्लॉग बनाने का एकमात्र उद्देश्य students को हिंदी और इंग्लिश ग्रामर, गणित और शिक्षा से जुडी जानकारी देना है.

Leave a Comment